बलिदान की ज्योति

मैंने ऊँचे उठते स्वर में जवान की जान देखी है
कोडियो के भाव बिकती कला ईमान देखी है
बेसक अब न होती आँखों में जगमग रोशनी
जवानों में बलिदान की ज्योति महान देखी है

#गुनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *