Monthly Archives: October 2014

ऐ चाँद अभी भौर है

वो निकली है यहीं कहीं से अभी अभी सुना शौर हैजरा छिपाकर रख चांदनी को ऐ चाँद अभी भौर है #गुनी…

मुझे सिर्फ इतना फ़िक्र है

तू फिर आएगी दिल तोड़कर, अपना बनाने बस्ती में ये जिक्र हैबेसक मैं जैसा भी हूँ तू सलामत तो है मुझे सिर्फ इतना फ़िक्र है #गुनी…

आँखों में पानी देता है

वक़्त से खबरदार ये वक़्त चोट-गहरी निशानी देता हैसंभल रख कदम यहाँ इन्सां गवा सारी जवानी देता हैकिसी गैर का दोष नहीं है जो उनपर उंगली उठाते होये कमबख्त इश्क… Read more »

नयी कहानी हो गई

वो मिलने आती थी चांदनी रातो को वैसे ये बात पुरानी हो गईउसका आना-जाना था ऐसा, फिर सारी दुनिया दीवानी हो गईजब मैं खूब रोया उसकी यादो में, मैंने भी… Read more »

धड़कन भी तेरी है

क्या शक्ल, क्या सूरत, दिल की खूबसूरती जरुरी हैबिना मौहब्बत के इंसान की कमाई आधी अधूरी हैकुछ क्षण और गुजर जाएंगे मेरे , आंसुओ के सहारेमैं तो ना झुकता धड़कन… Read more »

दिवाली की शुभ कामनाये २

मिठाइयो का पर्व है, मीठा बोलो जिह्वा पर न गाली होनी चाहिएजब आए लक्ष्मी संग गणेश हाथो में पुजा की थाली होनी चाहिएसबके साथ मिलकर रहना सीखो, किसी से मांगो… Read more »

दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं

परिवार में सबके रहती है अब देश में खुशहाली होनी चाहिएसारा जहाँ झुक जाए, हिन्द की फितरत निराली होनी चाहिएदीप प्रज्वलित कर खुशियों के, खुशियाँ बाँटो बस इतनी तुमबेशुमार खुशियाँ… Read more »

स्वप्न टूट गया

दुःख तो घना हुआ जब तेरा मेरा साथ छूट गयाख़ुशी की एक एक बूंद भरी और घड़ा फुट गयामगर रोने वाली कोई बात नहीं थी, ना फ़िक्र थीक्यूंकि जब प्रातः… Read more »