Monthly Archives: November 2015

कुछ भाव आपकी खातिर

देर से मगर खुदा का इंसाफ यही है                   उसके घर मे दीपक चार जल गएजिसने किसी खुदा के बंदे के घर में                  कभी दिया सिर्फ एक जलाया हो सारे… Read more »

कब्र तक आना भी भूल गए

ऐसा दफन किया कम्बख्त यादो को मेरीकि वो लोग कब्र तक आना भी भूल गए जिनकी फितरत पर फिदा हुआ, ये दिलआखिर डूब समंदर उनके भी असूल गए #गुनी…

मैं तोड़ दूं क्या

बस ऐसे ही … 😊 सवाल सिर्फ ये है इश्क बुरा हैबताओ तो मैं इसे छोड़ दूं क्या ये दिल जिसे टूटना ही है मियांअब टूटने दूं या मैं तोड़… Read more »

मौत को तो सुनहरा रहने दे

तूने मुखोटे पर मुखोटे लगाए हर दमअब तो आखिर असल चेहरा रहने दे सब कुछ मिटा दिया अब कम से कमजो दिया है घाव उसे तो गहरा रहने दे सारी… Read more »