Yearly Archives: 2016

तुझे मांग लूँ मैं

​तुझे मांग लूँ मैं, जो खुदा से मुलाक़ात हो जाए ख़ामोशी भी मंजूर है , जो तुझसे बात हो जाए यकीनन ये मौहब्बत मुकाम को हासिल करेगी जो एक दफा… Read more »

लहरों से जीत आया हूँ

​रात भर सोया नहीं ,  मैं रात के अंधेरो से जीत आया हूँ चाँद के ढलने से पहले जागकर सवेरो से जीत आया हूँ कागज की हैं कस्तियां मेरी ,… Read more »

खत नामंजूर हुआ है

​भला ऐसा हुआ है कभी लहरें समन्दर से नाता तोड़ लें यकीनन मेरी सिफारिशों का कोई खत नामंजूर हुआ है #गुनी…

हैरान न होईये

गुनी फिर से हाज़िर है खिदमत में जनाब हैरान न होईये आज मौहब्बत पर कर ली जाये गुफ़्तुगू परेशान न होईये #गुनी…

नजर मिल गयी

​एक दफा हमारी, उनसे कहीं नजर मिल गयी यूँ मानिये हमें सारे जहां की खबर मिल गयी जब निकलता है गुनी चाँद के साथ अकसर लोग पूछ लेते हैं ये… Read more »

नजर मिल गयी

एक दफा हमारी, उनसे कहीं नजर मिल गयी यूँ मानिये हमें सारे जहां की खबर मिल गयी #गुनी…